18 एकड़ में अंतरवर्तीय फसल से किसान ने कमाया 13 लाख 87 हजार का मुनाफा।

बड़वानी 10 फरवरी 20233/

बड़वानी जिले के किसान श्री ईश्वर पिता हरी पंवार ग्राम मोरतलाई विकासखण्ड पानसेमल जिला बड़वानी के निवासी है। कृषक द्वारा गन्ना फसल में नवीन तकनिकी अपनाकर अंतरवर्तीय फसल सोयाबीन एवं चना की खेती की जा रही है। जिसमें गन्ना के साथ-साथ अंतरवर्तीय फसलो का उत्पादन एकल फसल की तुलना में अधिक उत्पादन प्राप्त किया गया। अंतरवर्तीय फसल की संपूर्ण कार्यमाला कृषि विभाग के अधिकारीयों द्वारा समय-समय पर दी गई सलाह के अनुसार किया गया।
बुआई से पूर्व खेत की गहरी जुताई करने पश्चा्त पाटा चलाकर गन्ने की नालियॉ बनाकर जिसमें कम्पोस्ट खाद के साथ उर्वरक एवं फफुंद नाशक एवं मिटटी उपचार हेतु प्रति एकड 2 किलोग्राम क्लोरीपेरीफास दानेदार को नालियो में डालकर नवंबर 2021 में गन्ना बुआई किस्म सीओ व्हिएसआई 8005 एवं सीओ व्हिएसआई 10001 40 टन बोया गया। प्रति एकड 2 से 2.5 टन गन्ने के दो आंख वाले टुकडे बनाकर चैपाई की गई । तत्पश्चात सिचाई कर अंकुरण के बाद निंदानाशक का छिडकाव कर 10 एकड क्षेत्र में दिसंबर 2021 में सोयाबीन किस्मन 9805 बीज की मात्रा प्रति एकड 30 किलो एवं 8 एकड क्षेत्र में चना किस्मे पीकेवी 2 प्रति एकड 20 किलोग्राम की अंतरवर्तीय बोनी की गई। समय-समय पर सिंचाई कर एवं कीटनाशक का छिडकाव किया गया।
गन्ने में कल्लेम के फुटाव हेतु ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी श्री बीआर जैन के मार्गदर्शन में 0 अनुपात12 अनुपात 61 एवं हयुमिक तरल का टोआ दिया गया ।जिसके कारण गन्ने में अच्छे कल्ले निकले । मार्च के पहले सप्ताह में चने की एवं मार्च के अंत में सोयाबीन की कटाई की गई । इस प्रकार उन्हे गहाई पश्चापत सोयाबीन 52 क्विंटल एवं चना 44 क्विंटल की उपज प्राप्त हुई । सोयाबीन 4700 रू प्रति क्विंटल एवं चना 7400 रू प्रति क्विंटल मुल्य से विक्रय किया । इस प्रकार मुझे अंतरवर्तीय फसल से 570000 प्राप्त हुये। उपज निकालने के पश्चात गन्ने में अंतरवर्तीय कृषि क्रियाये कर खेत की जुताई की गई एवं गन्ने का फुटाव अच्छा हो जाने से गन्ने में रासायनिक खाद 12अनुपात32अनुपात16, पोटास एवं युरीया खाद देकर मिट्टी चढाने का काम किया गया । समय-समय पर सिचांई कर दो बार युरीया की टाप ड्रेसिंग की गई एवं खाद के साथ सल्फर का छिडकाव भी किया गया। 25 दिसंबर 22 से गन्ना कटाई का कार्य प्रारंभ किया गया ।
दुर्गा खाण्डसारी एवं शुगर मिल मेंद्राणा द्वारा 828 टन गन्ने की उपज विक्रय की गई । जिसका मजदुरी एवं ढुलाई का भुगतान मिल द्वारा किया गया एवं शेष राशी 2425 रूपये प्रति टन के हिसाब से कुल 2007900 रूपये का भुगतान किया गया, तत्पश्चात 75 रूपये प्रति टन का बोनस कुल 62100 रूपये भी दिया गया । इस प्रकार गन्ने से 2070000 एवं अंतरवर्तीय फसल सोयाबन एवं चना से 570000 रूपये कुल 2640000 रूपये प्राप्त हुये।
किसान ईश्वर पिता हरी पंवार बताते है कि अंतरवर्तीय फसल तकनीक अपनाकर उन्होने 13 लाख 87 हजार रुपये का लाभ प्राप्त हुआ है। उल्लेखनीय है कि कलेक्टर डाॅ. राहुल फटिंग ने बुधवार को उक्त कृषक के खेत का निरीक्षण कर उनकी खेती की उन्नत तकनीकी की प्रशंसा करते हुए अन्य किसानों को भी प्रशिक्षित करने के निर्देशित दिये थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *